DESH KI AAWAJ

उदघाटन से पूर्व महाविद्यालय भवन में आई दरारे

उदघाटन से पूर्व महाविद्यालय भवन में आई दरारे

पांच करोड से बना भवन कर रहा उदघाटन का इंतजार
सार्वजनिक निर्माण विभाग बेपरवाह
एक वर्ष पूर्व ही ठेकेदार द्वारा बनाया जा चुका है भवन
भवन के चारों तरफ आई मोटी मोटी दरारें

दिव्यांग जगत/भूपेन्द्र सिंह पंँवार

अराँई – अराँई राजकीय महाविद्यालय राजनैतिक उपेक्षा का शिकार हो चुका है। सार्वजनिक निर्माण विभाग के ठेकेदार ने पांच करोड के भवन में घटिया सामग्री का उपयोग किया जिससे उदघाटन से पूर्व ही भवन में कई दरारे आ गई है। अराँई में राज्य सरकार ने चार वर्ष पूर्व राजकीय महाविद्यालय की घोषणा करी थी। उसके बाद पांच करोड रूपये की वितिय स्वीकृति के बाद महाविद्यालय भवन के निर्माण का कार्य शुरू हुआ। भवन निर्माण कार्य को भी एक वर्ष पूर्ण हो चुका है परन्तु भवन में कई कमियां होने के कारण महाविद्यालय प्रशासन भवन में स्थानान्तरित नहीं हो रहा है। कई बार महाविद्यालय भवन को लेकर ज्ञापन दिये जा चुके है परन्तु भवन की कमियां दूर नहीं होने से महाविद्यालय अन्यत्र छोटे से परिसर से ही संचालित किया जा रहा है।
छात्र संघ अध्यक्ष जता चुका है विरोध– अराँई राजकीय महाविद्यालय के छात्र संघ अध्यक्ष महेन्द्र भामु भी सार्वजनिक निर्माण विभाग के समक्ष महाविद्यालय के नवीन भवन को लेकर विरोध दर्ज करा चुका है। छात्र संघ अध्यक्ष महेन्द्र भामू ने बताया कि महाविद्यालय के नवीन भवन में कई जगह दरारे आ चुकी है। भवन निर्माण में ठेकेदार द्वारा कोताही बरती गई जिससे भवन संचालित होने से पूर्व क्षतिग्रस्त हो चुका है। भवन में बारिस के दिनों में छतों से पानी टपक रहा था। कमरों की फर्श नीचे बैठ गई है। भवन के चारों और की दीवारों में बडी बडी दरारे आ चुकी है ऐेसे में भवन में छात्र-छात्राओं को स्थानान्तरित करना सुरक्षित नहीं होगा। भामू ने बताया कि नवीन महाविद्यालय भवन की नींव ही कमजोर है जिससे उसके चोरों और की दीवारे बैठ गई है। कई दीवारे जगह छोड चुकी है।

प्राचार्य ने भी जताई आपत्ति– राजकीय महाविद्यालय के प्राचार्य प्रमोद कुमार सिंह ने बताया कि राजकीय महाविद्यालय भवन को ठेकेदार द्वारा हैंडओवर नहीं किया गया है। भवन में पानी के होज नहीं है। ऐसे में बच्चों को पीने की पानी की समस्या रहेगी। महाविद्यालय के भवन में दरारों की शिकायते प्राप्त हो रही है।
इनका कहना हैं- राजकीय महाविद्यालय भवन छात्रों के लिये सुरक्षित नही है इसकी कमियों को दूर करने के बाद ही छात्रों को नए भवन मैं स्थानांतरित किया जा सकता हैं। सार्वजनिक निर्माण विभाग की लापरवाही के कारण महाविद्यालय छोटे से परिसर में संचालित हो रहा है। भवन को पूर्ण तैयार होने के बाद ही इसमें छात्र आएंगे – महेंद्र भामू छात्र संध अध्यक्ष।

admin
Author: admin